मेरा पानी मेरी विरासत योजना: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 2021 (Mera Pani Meri Virasat)

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा के किसानों के लिए शुरू की गई है। भारत एक कृषि प्रधान देश है और कृषि करने हेतु पानी अति आवश्यक है। देश के विभिन्न हिस्सों में भू-जल का स्तर गिरने की वजह से किसान को खेती करने में समस्या का सामना करना पड़ रहा है। खेतों में अच्छी फसल के लिए पानी की जरुरत को पूरा करने हेतु पानी पर अधिक खर्च करना पड़ रहा है।

हरियाणा राज्य में ज्यादातर लोग धान की खेती करके आजीविका चलाते हैं । अन्य फसलों की अपेक्षा धान की फसल में ज्यादा पानी की आवश्यकता होती है। इसलिए हरियाणा सरकार ने कम पानी वाली फसलों के पक्ष में धान की फसल छोड़ने वाले किसानों को सालाना 7000 रुपये देने का फैसला किया है।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2021

हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना 2021

Name of the SchemeMera Pani Meri Virasat Yojana
Launched byHaryana Government
BenefitsFinancial Help for Farmers
BeneficiaryFarmers of Haryana
Application ModeOnline
Similar Schemeमेरी फसल मेरा ब्यौरा

उद्देश्य

प्रत्येक वर्ष राज्य में धान के बढ़ते हुए क्षेत्र से लगभग 1.0 मीटर भू-जल स्तर में गिरावट दर्ज की जा रही है। राज्य के कृषक धान की खेती पर अधिक विश्वास करते हैं, इस खेती में पानी अन्य फसलों की अपेक्षा ज्यादा खर्च होता है।

इसलिए, राज्य किसानों को धान की खेती छोड़कर अन्य फसलों की खेती करने हेतु प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से मेरा पानी मेरी विरासत योजना को शुरू किया है। इससे खेती में विविधता होगी और पानी की खपत में भी कमी आएगी। योजना के अनुसार सरकार ने किसान को धान के स्थान पर मक्का, अरहर, उड़द, कपास, बाजरा, मूंग जैसी फसल बौने के विकल्प दिए हैं। करीब एक लाख हैक्टेयर भूमि पर अन्य फसलों को जगह देना का लक्ष्य रखा है।

योजना के लाभ

  1. मेरा पानी मेरी विरासत योजना अंतर्गत किसानों को धान की खेती छोड़कर अपने खेत के 50 प्रतिशत हिस्से पर अन्य फैसला जैसे मक्का, अरहर, उड़द, कपास, बाजरा की खेती करने की एवज में 7000 रुपए प्रति एकड़ की हिसाब से राशि दी जाती है।
  2. अगर किसान अपने खेत में अन्य फसलों को स्थान देकर उनका फसल बीमा करवाता है तो किसान के हिस्से की राशि सरकार द्वारा दी जाती है।
  3. फसल विविधीकरण हेतु किसान द्वारा सिंचाई यंत्र खेतों में स्थापित किए जाते हैं तो इस स्थिति में किसान को कुल लगत का सिर्फ जीएसटी ही देना होगा।
  4. यदि किसान मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास और सब्जी की खेती करता है सरकार फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर करेगी।
  5. इस योजना से जल संरक्षण को भी बढ़ावा मिलेगा और आने वाले समय में राज्य के भू-जल में भी वृद्धि होगी।
  6. खेती सम्बंधित मशीनरी उपलब्ध करवाई जाती है एवं माइक्रो-इरीगेशन और ड्रिप इरीगेशन के लिए 80% सब्सिडी भी दी जाती है।
  7. मक्का बिजाई मशीन पर 40% की सब्सिडी दी जाती है और मक्का खरीद के दौरान मण्डीयों में मक्का सुखाने के लिए मशीने लगाई जाएगीं, जिससे किसानों को पर्याप्त नमी के आधार पर उचित मुल्य मिल सके।
  8. यह योजना राज्य के सभी जिलों में लागू है। मेरा पानी मेरी विरासत योजना से सम्बंधित एक पोर्टल भी बनाया है, जिससे पात्र लाभार्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकता है।

पात्रता

  1. सिर्फ हरियाणा के मूल निवासी किसान ही इस योजना का लाभ ले सकते हैं।
  2. इस योजना के तहत जिस किसान ने अपनी कुल जमीन के 50 प्रतिशत या उससे अधिक क्षेत्र पर धान के बजाय मक्का, कपास, बाजरा, दलहन, सब्जीयां इत्यादि फसल उगाई है तो उसको 7,000/- रूपये प्रति एकड़ की दर से राशि प्रदान की जाएगी।
  3. यह राशि उन्ही किसानो को ही दी जाएगी जिन्होने गतवर्ष (खरीफ 2019-20) के धान के क्षेत्रफल में से 50 प्रतिशत या उससे अधिक क्षेत्र में फसल विविधीकरण अपनाया है।
  4. हरियाणा के जिन क्षेत्रों में पर्याप्त पानी है और वहां यदि कोई किसान धान की खेती को छोड़कर अन्य फसल को अपने खेत में स्थान देता है तो वह भी इस योजना का लाभ लेने के पात्र होगा।
  5. इस योजना के लाभ उठाने के लिए आवेदक का बैंक खाते से आधारकार्ड नंबर लिंक होना चाहिए।

आवश्यक दस्तावेज

  1. आधार कार्ड
  2. पहचान पत्र
  3. बैंक अकाउंट पासबुक
  4. मोबाइल नंबर
  5. पासपोर्ट साइज फोटो
  6. कृषि योग्य भूमि के कागज़ात
  7. हरियाणा का स्थायी निवासी प्रमाणपत्र

मेरा पानी मेरी विरासत योजना की ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन / आवेदन प्रक्रिया

Step 1: सबसे पहले आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना से सम्बंधित आधिकारिक वेबसाईट पर जाना होगा।

Step 2: ऑफिसियल वेबसाइट का होम पेज खुलने के बाद “फसल विविधीकरण” के विकल्प पर क्लिक करें।

Step 3: अब अपनी आधार संख्या को दर्ज करें और नेक्स्ट पर क्लिक करें।

Step 4: आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा, जिसमें आपको पूछी गई पूर्ण जानकारी ध्यानपूर्वक भरना होगा।

Step 5: जानकारी दर्ज करने के बाद आप सबमिट बटन पर क्लिक करें। मेरा पानी मेरी विरासत के लिए आपका ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन पूर्ण हो जाएगा।

Leave a Comment